Sunday, June 7, 2009

छोटी कंपनियों में निवेश वाले MFs ने दिया मोटा मुनाफा

चेन्ने : शेयर बाजार की हालिया तेजी के पीछे भले ही 10 , 000 करोड़ रुपये से ज्यादा मार्केट कैपिटल वाली कंपनियों के शेयरों की भूमिका रही हो , पर इस दौरान म्यूचुअल फंडों ने मिड कैप और स्मॉलकैप कंपनियों में निवेश का पूरा फायदा उठाया है। आकड़ें तो कम से कम यही कहानी बयां करते हैं। मिड कैप और स्मॉल कैप में इनवेस्ट करने वाले करीब 35 म्यूचुअल फंडों के औसत नेट ऐसेट्स वैल्यू ( एनएवी ) में पिछले 3 महीने में करीब 90 परसेंट की बढ़त दर्ज की गई है।

इस लिस्ट में सबसे ऊपर एसबीआई मैग्नम मिडकैप फंड रहा है , जिसके एनएवी में पिछले 3 महीने में करीब 127 परसेंट की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। बाकी फंडों में जेएम इमर्जिंग लीडर्स , जेएम स्मॉलकैप एंड मिडकैप , एसबीआई मैग्नम सेक्टर अंब्रेला - इमर्जिंग बिजनेस , प्रिंसिपल जूनियर कैप आदि रहे हैं , जिनके एनएवी 90 दिनों में करीब दोगुने हो गए हैं।

एसबीआई मैग्नम मिडकैप फंड के फंड मैनेजर विवेक पांडे ने बताया - ' बाजार में जबर्दस्त तेजी आई , मिडकैप स्टॉक्स ने बेंचमार्क इंडेक्स के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन किया। जब बाजार उतार - चढ़ाव की गिरफ्त में रहे , तब भी इन स्टॉक्स ने बड़ी कंपनियों के स्टॉक्स के मुकाबले काफी अच्छा प्रदर्शन किया। मिडकैप स्टॉक्स की रफ्तार को तभी रोका जा सकता है , जब इनमें करीब 10 से 15 परसेंट का करेक्शन देखने को मिले , पर मुझे देश के भीतर ऐसा कोई फैक्टर नजर नहीं आ रहा , जो मिडकैप इंडेक्स में इतनी बड़ी गिरावट की वजह पैदा करे। '

बिड़ला सनलाइफ मिडकैप , डीबीएस चोला मिडकैप , डीबीएस चोला स्मॉल कैप , फ्रैंकलिन इंडियन स्मॉलर कंपनीज , जेएम मिडकैप और सुंदरम बीएनपी परिबा जैसे फंडों ने भी इस पीरियड में 80 से 90 परसेंट के बीच रिटर्न दिया। यहां तक कि काफी कमजोर माने वाले म्यूचुअल फंडों ने भी 3 महीने में 60 से 65 परसेंट के बीच रिटर्न दिया।

स्कीम 3 महीने का रिटर्न (प्रतिशत में )

एसबीआई मैग्नम मिडकैप 127

जेएम इमर्जिंग लीडर्स 124

जेएम स्मॉल एंड मिडकैप 113

एसबीआई मैग्नम- इमर्जिंग बिजनेस 113

प्रिंसिपल जूनियर कैप 110

सुंदरम बीएनपी परिबा सेलेक्ट मिडकैप 108

प्रिंसिपल इमर्जिंग ब्लूचिप 107

डीएसपी ब्लैकरॉक माइक्रो कैप 102

केनरा रोबेको इमर्जिंग इक्विटीज 101

सहारा मिडकैप फंड 100

नोट : सभी स्कीम ग्रोथ स्कीम हैं और आंकड़े 3 जून तक के हैं

स्रोत : म्यूचुअल फंड्स इंडिया